right_side

About

Blogroll

Blogger news

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Blogger templates

Pages

यहाँ प्रकाशित रचनाएँ सर्जकों के द्वारा कोपीराईट से सुरक्षित हैं |. Powered by Blogger.

Popular Posts

There was an error in this gadget

Recent Visitors

Followers

There was an error in this gadget

Blog Archive

In:

भ्रूण ह्त्या...

आज...

वृद्धाश्रम के दरवाजे के
सहारे खड़े यह
मेरे ध्रुजते दोनों पाँव
रहते थे कभी अडिग....!
लगता है...
बेटी जो होती तो
संभालती मुझे माँ बनाकर
उन्मत खड़ा रहता
देव मंदिर में....!
शादी का ढोल बजने लगा
और मेरे ह्रदय की खिड़की खुल गयी
देखा मैंने...
बेटी का बाप दे रहा था आशीर्वचन
बिदाई के समय
ईर्ष्या आती है मुझे उनके सुख की
पीड़ा देती है आज मुझे
मैंने करवाई हुई उए भ्रूण ह्त्या का
पाप... !!
(बेटी बचाओ अभियान- पर लिखी कविता)

In:

हिन्दुस्तानी खून










|| हिन्दुस्तानीओं के खून में "क़ुरान" श्वेतकण है और "भगवद गीता " रक्तकण" ||

In:

इंसान

ये आसमान देखा होता या होते पाँव ज़मीं पर,
कौन सोचता यहाँ मुसलमाँ और हिन्दू ज़मीं पर

*



*








फट जाएँगी धरती, टूट पडेगा आसमाँ,
फिर कौन रहे यहाँ हिन्दू या मुसलमाँ

In:

स्वर्गीय दुला भाया काग



गुजराती लोकगायक स्वर्गीय दुला भाया काग के एक दोहरे का अर्थ कुछ इस प्रकार है - "सूखे घास के पूले के गंज में अगर आग लगे तो उसे बुझाने के बदले जितने पूले को बचा सके उसे बचना चाहिए |" (मतलब कि समाज में विकृति की आग बेकाबू होती जाती है, तब हम अपने को उससे बचा सकें तो अच्छा |)

In:

आज बेटी दिवस है.....

बेटा वारस है, बेटी पारस है |

बेटा वंश है, बेटी अंश है |

बेटा आन है, बेटी शान है |

बेटा तन है, बेटी मन है |

बेटा मान है, बेटी गुमान है |

बेटा संस्कार, बेटी संस्कृति है |

बेटा आग है, बेटी बाग़ है |

बेटा दवा है, बेटी दुआ है |

बेटा भाग्य है, बेटी विधाता है |

बेटा शब्द है, बेटी अर्थ है |

बेटा गीत है, बेटी संगीत है |

बेटा प्रेम है, बेटी पूजा है |

In:

अपर्णा भटनागर

स्वागत ! "विश्वगाथा" के आँगन में पिछले रविवार को हमने अपनी अलग अलग विधाओं में आप सब के लिएँ किसी एक "अतिथि" के अंतर्गत ब्लॉग की दुनिया की जानीमानी कवयित्री रश्मि प्रभा की कविता प्रस्तुत की थी |

इस बार भी हम ऐसी ही एक सशक्त कवयित्री अपर्णा भटनागर को प्रस्तुत रहे हैं | अपना एक काव्य संग्रह "मेरे क्षण" देने वाली यह कवयित्री जानती है कि जल्दी पुस्तक देने से अच्छा हो कि उच्च स्तरीय रचनाएं लिखने का आनंद लेना और कविता भावकों के ह्रदय में स्थान पाना ही बड़ा सौभाग्य होता है | ईस कवयित्री के कलम से अद्भुत कविता से हम सब को प्रसन्न कर देगी और कुछ सीख भी ... | - पंकज त्रिवेदी

मैं हूँ न तथागत - अपर्णा भटनागर
हाँ, मैं ही हूँ ..
देशाटन करता
चला आया हूँ ..
सुन रहे हो न मुझे?
बुद्धं शरणम् गच्छामि
संघम शरणम् गच्छामि
धम्मम शरणम् गच्छामि !
यूँ ही युगांतर से
नेह -चक्र खींचता
चलता रहा हूँ -


मैं , हाँ मैं
बंजारा फकीर तथागत ..

तब भी जब तुम
हाँ , तुम ..
किसी खोह में
ढूंढ़ रहे थे
एक जंगली में सभ्य इंसान ..
यकायक तुम्हारी खोज
मकड़ी के जालों में बुन बैठी थी


अपने होने के परिधान !
और .. और ..

तुम उसी दिन सीख गए थे
गोपन रखने के कायदे .
एक होड़ ने जन्म लिया था
और खोह -
अचानक भरभरा उठी थी ..


बस उस दिन मैं आया था
अपने बोधि वृक्ष को सुरक्षित करने -
हाथ में कमंडल लिए -
सभ्यता का मांगने प्रतिदान !
बुद्धं शरणम् गच्छामि
संघम शरणम् गच्छामि
धम्मम शरणम् गच्छामि !

एक युग बीत गया -
तुम हलधर हुए ..
तब मैं तुम्हारे हल की नोंक में


रोप रहा था रक्त-बीज ..
वे पत्थर सूखे
अचानक टूट गए थे
और बह उठी थी सलिला ..

शीतल प्रवाह .
और उमग कर न जाने कितने उत्पल
शिव बन हुए समाधिस्थ ..
इसी समाधि के भीतर
मैं मनु-श्रद्धा का प्रेम प्रसंग बना था
और तब कूर्मा आर्यवर्त होकर सुन उठी थी ..



बुद्धं शरणम् गच्छामि
संघम शरणम् गच्छामि
धम्मम शरणम् गच्छामि !

मैं फिर आया था
तुम इतिहास रच रहे थे ..
सिन्धु , मिस्र, सुमेरिया ..
और भी कई ..
अक्कादियों की लड़ाई ..
हम सभी लुटेरे हैं ..


और तब लूट-पाट में
नोंच-खसोट में ..
मैंने आगे किया था पात्र!
भिक्षा में मिले थे कई धर्म ..
बस उनके लिए
हाँ, उनके लिए सुठौर खोजता ..


निकल आया था
तुम्हारे रेणु-पथ पर
बुद्धं शरणम् गच्छामि
संघम शरणम् गच्छामि
धम्मम शरणम् गच्छामि !

तुम्हें शायद न हो सुधि ..
पर मैं कैसे भूल जाऊं
तुम्हारी ममता ..!
सुजाता यहीं तो आई थी
खीर का प्याला लिए ..
मेरी ठठरी काया को
लेपने ममत्त्व के क्षीर से ..
मैं नीर हो गया था ..
मेरे बिखरे तारों को चढ़ा ,
वीणा थमा बोली थी -

न ढीला करो इतना
कि साज सजे न
न कसो इतना
कि टूट जाए कर्षण से ..
बस उसी दिन
यहीं बोधि के नीचे
सूरज झुककर बोल उठा था -
बुद्धं शरणम् गच्छामि

संघम शरणम् गच्छामि
धम्मम शरणम् गच्छामि !


तब से मैं पर्यटन पर हूँ ..
तुम साथ चलोगे क्या ?
कितने संधान शेष हैं ?
हर बार जहां से चलता हूँ
लौट वहीँ आता हूँ ..
पर लगता है सब अनदेखा !
मैं कान लगाये हूँ
अपनी ही प्रतिध्वनि पर -
किसी खाई में
बिखर रही है ..
तुम सुन पा रहे हो ..?


बुद्धं शरणम् गच्छामि
संघम शरणम् गच्छामि
धम्मम शरणम् गच्छामि !

इस कमंडल में हर युग की
हाँ , हर युग की समायी है -
मुट्ठी-भर रेत
इसे फिसलने न दूंगा ...
मैं हूँ न तथागत
हर आगत रेत का ..

In:

अतिथि


स्वागत !

"विश्वगाथा" के आँगन में पिछले रविवार को हमने अपनी अलग अलग विधाओं में आप सब के लिएँ किसी एक "अतिथि" के अंतर्गत ब्लॉग की दुनिया की जानीमानी कवयित्री रश्मि प्रभा की कविता प्रस्तुत की थी |
इस बार भी हम ऐसी ही एक सशक्त कवयित्री को प्रस्तुत कर रहे हैं | जिन्हें आप जानते ही हैं | अपना एक काव्य संग्रह देने वाली यह कवयित्री जानती है कि जल्दी पुस्तक देने से अच्छा हो कि उच्च स्तरीय रचनाएं लिखने का आनंद लेना और कविता भावकों के ह्रदय में स्थान पाना ही बड़ा सौभाग्य होता है |
मैं जानता हूँ, आप सब को इंतजार रहेगा कल यानी रविवार की सुबह का... जो एक सक्षम कवयित्री के कलम से अद्भुत कविता से हम सब को प्रसन्न कर देगी और कुछ सीख भी ... | - पंकज त्रिवेदी

In:

दादाजी और पौत्र

दादाजी और पौत्र का संबंध होता है निर्दोष और पारदर्शक | सामान उम्र के दोस्तों जैसा ! पौत्र अपने पिता से ज्यादा दादाजी के साथ रहता है, खेलता है, ढ़ेर सारी बातें करता है, हंसता है, रोता है, रूठ जाता है, गुस्सा होता है, सुनता है और समझता भी है | यह सबकुछ दादाजी और पौत्र के बीच में होता है, यही सब पिता और पुत्र के बीच में नहीं होता | दादाजी बुज़ुर्ग है, हमउम्र है, बच्चा है और इसीलिए दादाजी और पौत्र के बीच मेल हैं | दादाजी सुखी है, दुखी है, प्रखरता से बातें होती है, कहानी कहते हैं, पौराणिक कथाओं के साथ परी कथाएँ और परिकल्पनाओं से सजाते भी हैं | घर से समाज की बातें, माँ और पिता की बातें, भाई और बहन की बातें, खेल और अभ्यास की बातें, सामयिकों और अखबारों की बातें, दादाजी और पौत्र के बीच होती है | जो पिता और पुत्र के बीच नहीं होती | माता और बेटी के बीच भी ऐसा सूक्ष्म फ़र्क है | दादीमा हो तो खुशी की बात ही क्या? ऐसा विचार बेटीओं को भी आता | आज के ज़माने में बेटा और बेटी कहाँ दिखने को मिलते हैं !

दादाजी यानी दादाजी ! उनके मुकाबले पापा कहाँ? दादाजी को अब शहरीजन बनाना पड़ा है | दादाजी प्रात: जागते हैं | दूध की थैली ले आते हैं, खुद ही पानी गर्म करके स्नान करते हैं, पूजा-अर्चना करते और पौत्र को प्यार से सहलाते हुएं जगाते हैं, उसे स्कूल तक छोड़ने जातें या सब्जी भी ले आतें | दादाजी अखबार पढ़ते हैं तो पौत्र ही चश्मे लाकर देता | दादाजी को तो फ़ुर्सत ही फ़ुर्सत ! समय बीताने के लिएँ वह हमेशा कार्यशील ही रहतें | पूरा दिन एकांत में दादाजी, पौत्र के स्कूल से लौटने और उसके स्वागत के लिएँ तैयार रहते | दादाजी को पौत्र का ख़याल रखना होता और पौत्र को दादाजी का ! मम्मी को तो घर का काम ही ईतना कि बेचारी को समय ही कहाँ ? उनकी कईं बातें है, अगर सास होती तो शायद कह पाती या नहीं भी ! पप्पा को तो ऑफिस का काम, बोस के कीच-कीच और सामाजिक ज़िम्मेदारी भी तो.... ! किसे फ़ुर्सत है?

दादाजी को लगे कि पौत्र को पढाऊँ | कभी-कभी किताबों के बसते के बोज से छूटा हुआ पौत्र थोडा-सा खेलें तो मम्मी की बूम सुनाई देती; "बेटे, अपना होमवर्क ख़तम कर ले, पप्पा लड़ेंगे | दादाजी को तो क्या काम है? वो तो कहानियाँ ही सुनाते रहेंगे | आजकल के बच्चों को तो पढ़ाई अच्छी ही नहीं लगती....|" दादाजी मौन रहते हैं, हमेशा | पौत्र पढ़ता है | दादाजी देखते हैं | तड़के से जगे हुए दोनों की आँखों में फर्श से चमकता हुआ सूर्य प्रकाश आँखों में फैलता है तो मेघधनुषी रंगों से विविध आकर उभर आते हैं | पौत्र कुछ पल के लिएँ खुश हो जाता है | दादाजी यह सब जानते हैं | दादाजी बारीकी से देखते हैं | पौत्र गड़बड़े अक्षरों से नोटबुक में कुछ लिखता है | वह ईंगलीश मीडियम में हाँ | दादाजी अंग्रेजी बोल सकते हैं, लिख सकते हैं मगर वह तो अंग्रेजों के समय का ! मम्मी कहती है कि आजकल की पढ़ाई में दादाजी को क्या समज होगी ? मम्मी-पप्पा की पीढी आधी-अधूरी है | वह अंग्रेजों के ज़माने की अंग्रेजी नहीं जानते और वर्त्तमान की शिक्षा में उनकी चोंच डूबती नहीं ! दादाजी जब स्कूल में पढ़ते थे तब लोग कहतें कि मास्टर तो फक्कड़ अंग्रेजी बोलते हैं और लिखते भी ! उस ज़माने में लोग अंग्रेजी में अर्ज़ी लिखवाने आते | दादाजी का मान-सम्मान और ज्ञान लोगों के दिलों में अंकित था | आज मम्मी को पता नहीं कि दादाजी कौन है ? पप्पा तो केवल नौकरी ही करें, दादाजी के प्रति उनका मौन पौत्र को आकुलाता है, वह क्या कहें पप्पा को?

उसे तो मजा आता है, दादाजी के साथ | कहानियाँ सुनाने में, खेलने में और उनकी लचकती हुई लिस्सी त्वचा पर हाथ फेरने में ! ईस स्पर्श से दंतहीन मुंह वाले दादाजी हंसने लगे तो खूब आनंद आता ! पौत्र उन्हें मुँह खुलवाकर देखता है | घीस चुके, लाल-गुलाबी मसूड़ों को देखकर पौत्र पूछता है; "दादाजी, आप रोटी कैसे चबाते हैं? आपको तो दांत ही नहीं है !" फिर से दादाजी हंसते, बिलकुल भोलेपन से | मोतियाबिंद के कारण कमजोर हुई आँखों की पलकें थोड़ी सी ऊपर उठे | दीवार पर रहे दादीमा की तसवीर को देखें, पौत्र दादाजी को देखें और दादाजी की आँखों में से दो-चार बूंद गिरने गले |

दादाजी कहें; "बेटा, अब हमें खाने के स्वाद कहाँ? रोटी को तो दाल में भीगोकर नरम करने के बाद खाना | कईं बरसों तक हमने खाया, अब तो तुम्हें खाना होगा, हं बेटा !"

दादाजी पौत्र का अमीदर्शन करते हैं, प्रत्येक सुबह में...|

In:

देहाती


गुजरात के जानेमाने चित्रकार स्वर्गीय खोडीदास परमार के द्वारा बनाया गया चित्र

In:

सम्मान



किसीका सम्मान यानी उसके द्वारा किएँ गएं उत्तम कार्यों की पूजा, व्यक्ति की नहीं |

In:

प्रार्थना


किसी के लिएँ सच्चे ह्रदय से की गई प्रार्थना के शब्द लिखने के बाद ईश्वर को भी पूर्ण श्रद्धा और अधिकार से कह सकते हैं ;
"लीजिएँ,
मैंने कर दिएँ हैं दस्तख़त !"

In:

सुर


मंज़िल पता नहीं, तो तेरे दर पे आया
तुम ही हो वह जिसको समझने नहीं आया
हमतक एक आवाज़ निकली तेरे दिल से
सुर तो मिल गए यूहीं, क्या पता कैसे आया

In:

समकालीन



भारतीय हिन्दू और मुसलमान को व्यक्तिगत रूप से पूछे तो कहते है की मंदिर बने या मस्जिद, हमें -अमन से रहना है |







अंग्रेजों के बाद हमारे राजनेता मतों की भीख माँगते हैं और हमें आपस लड़ाते हैं | आम आदमी को राम हो या रहीम ! कोइ फर्क नहीं पड़ता...

In:

बेटी और माँ






ये आँखें क्यूँ भर आती है अभी से,
तुम बेटी हो ईतना ही काफ़ी नहीं |
वो तो कब की छोड़कर चली गई है,
कैसे बर्दास्त होगा जाओगी तुम भी !

In:

सत्यवचन से स्वीकृति

मालवेश्वर भोज सुबह-सुबह रथ पर सवार होकर जा रहे थे । रास्ते में एक ब्राह्मण दिखा । उसे देखकर राजा भोज ने रथ रोकने का आदेश दिया । भोज ब्राह्मणों का आदर करते थे । उन्होंने ब्राहमण का अभिवादन किया तो ब्राह्मण ने आँखें मूँद ली ।

ऐसा करने पर राजा ने ब्राह्मण से कारण पूछा; "आपने आशीर्वाद देने के बदली आँखें क्यों बंद कर दी...?"

ब्राह्मण ने कहा; "आप वैष्णव है, अनजाने में भी किसी हो नुकसान नहीं कर सकते । ब्राह्मण के प्रति तो हरगिज़ नहीं । इस कारण मुझे आपसे कोइ भय नहीं है । सच बात यह है कि आप किसी को दान नहीं देते । कहते हैं कि सुबह-शाम किसी कंजूस का मुँह देखें तो आँखे बंद कर देनी चाहिए । मैंने भी यही किया । दधीचि और कर्ण भी अपनी दान-वृत्ति के कारण मृत्यु के बाद भी अमर हो गये ।"

राजा भोज ने कहा; "हे ब्राह्मण, आपने मेरी आँखें खोल दी... मैं आपको दंडवत प्रणाम करता हूँ ।"

यूं कहकर राजा भोज ने ब्राह्मण के सच बोलने की तारीफ़ की और एक लाख मुद्राओं का दान भी दिया । साथ ही अपने राज्य में से ज़रूरतमंद को दान देने की भी घोषणा कर दी । सत्य को सहस के साथ बोलना चाहिए । सत्य भाषण करनेवाला सच्चे सुननेवालों को नया मार्ग दिखाता है।

In:

दस्तख़त


इंसान का व्यवहार और वृत्ति ही उसका दर्पण है |

In:

२४ घंटे


२४ घंटे को कौन बाँध सका है? कईं बार लगता है की इन २४ घंटों में मैं यह कर लूं, वो कर लूं, मगर होता कुछ नहीं | जब अपनों ने ही मुझे तोड़ दिया और मैं उन भरोसे पे जीता था कि सबकुछ सोच-समझ से बाहर था... अब कुछ भी तो हाथ में नहीं है | मैं उनको समझूं या वो मुझे... यही बात थी और घर की दहलीज पार कर गया | समय बहुत कम था, क्या कुछ करना था हमें प्यार के लिए ...! मरते थे एक दूसरे पर | मगर ये वही लोग हैं जो हमेशा बहाना करते थे कि हमारे पास समय ही कहाँ? वो लोग इन दिनों बेकार हो गए और धरते रहे ध्यान हमारे बारे में... २४ घंटा पूरा भी नहीं हुआ और बेटियों ने आवाज़ लगाई हमें.... मिलने सुकून मिलेगा यही छोटी सी सोच थी | जब लौटा तो उसी गहरी घाटियों में उलझ गया... ! समय बीतने लगा... मगर मेरा समय गुज़रता नहीं, थम सा गया है- समय और ज़िंदगी.... उसी चौराहे पर खडा हूँ जहां से कहीं भी जा सकता था | आज वही चौराहा दीवार बनकर खडा है और मैं कैद हूँ अपनी ही गलियों में... इन २४ घंटे ने मेरी ज़िंदगी के पन्नों को पीला कर दिया, उधर से दीमक उभर आई है... जानता हूँ कि अब समय नहीं है... पहले मैं इंतजार करता था उसका, और अब... उस दीमक का, जो निश्चित कर बैठी है मेरे अंत को.... !